व्यापारी आत्महत्या के कगार पर है, सरकार से है आर्थिक पैकेज की दरकार

0
101
शुक्रवार को गांव देश तक न्यूज़ प्रेस वार्ता में भदोही धर्म कांटा केंद्र के मालिक- राधेश्याम उपाध्याय जी से उनके आवास पर खाश बातचीत हुई जिसमें उन्होंने काटे बाट के निर्माता, विक्रेता और मरम्मत कर्ता व्यापारियों के लिए सरकार से कुछ मांग की उन्होंने कहा
लाकडाउन,कोविड-19 की वजह से काटे वाट के निर्माता, विक्रेता, मरम्मत कर्ता का काम बिल्कुल ठप है इस व्यापार से जुड़े सभी व्यापारी उद्यमी व मरम्मत करने वाले प्रदेश के तमाम माध्यम वर्गीय और छोटे व्यापरियो की माली हालत दयनीय है, फिर भी सरकार का कर्मचारियों का वेतन समय से न देने पर कारवाई करने के फरमान
से व्यापारी,उद्यमी परेशान है बिना आमदनी के सारे खर्च कैसे उठाया जाय,यदि सरकार की तरफ से मदद नही मिली तो प्रदेश के तमाम छोटे और मध्यम वर्गीय व्यापारी उद्यमी व मरम्मत कर्ता आत्महत्या को मजबूर होगें।सरकार के द्वारा किया जा रहा हर कार्य प्रसंसनिय है,एक नजर व्यापारी समाज पर भी पड़ना चाहिए लाकडाउन के दौरान प्रतिष्ठानो का बिजली बिल माफ करने के साथ आर्थिक पैकेज देने की घोषणा करनी चाहिए।जीएसटी मेंअपंजीकृत को भी मदद मिलनी चाहिये जबकि पंजीकृत व्यापारियो को जीएसटी और इनकम टैक्स रिटर्न के आधार पर आर्थिक पैकेज दिया जाना चाहिए। तथा बैंक लोन माफ करने पर भी विचार किया जाना चाहिये।
ये सब मांग उपाध्याय जी ने सरकार से की है
अब देखना ये ही कि सरकार इनमें से कौन कौन मांग पूरी करती है